असफल घोषित जूनियर इंजनियर्स के काम में ना करें हस्तक्षेप: हाई कोर्ट

इलाहाबाद
इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की जूनियर इंजिनियर (सिविल) 2015 भर्ती के तहत नियुक्त जूनियर इंजिनियर्स के कार्य में किसी प्रकार के हस्तक्षेप पर रोक लगा दी है। कोर्ट ने इस मामले को लेकर याचिका पर आयोग और राज्य सरकार से जवाब मांगा है। याचिका पर अगली सुनवाई 5 जुलाई को होगी। यह आदेश जस्टिस सुनीता अग्रवाल ने विपिन कुमार मौर्या और चार अन्य की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है।

शर्मनाक: पिता पर बेटी से दुष्कर्म का आरोप, भाई ने किया बहन का सौदा

विकास पाठक, वाराणसीवाराणसी में रिश्तों को शर्मसार करने का मामला सामने आया है। एक घटना में पिता पर ही मासूम बेटी से दुष्कर्म का आरोप है तो दूसरा मामला बड़े भाई द्वारा बहन को बेचे जाने का है। दोनों ही मामलों में पुलिस ने मुकदमा दर्ज जांच शुरू कर दी है।

पिता द्वारा बेटी से दुष्कर्म करने का मामला कैंट इलाके का है। बेटी की मां निजी अस्पताल में कार्यरत हैं। आरोप है कि जब वह ड्यूटी चली जाती थीं तो उनका पति अपनी 6 साल की बेटी से दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देता था और किसी को ना बताने की धमकी भी देता था।

1 अप्रैल 2005 से पहले आरक्षित कोटे में नियुक्त शिक्षकों को मिलेगी पुरानी पेंशन

इलाहाबाद
इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अप्रशिक्षित सहायक अध्यापकों के पेंशन और जीपीएफ विवाद का निस्तारण कर दिया है। कोर्ट ने कहा है कि 1 अप्रैल 2005 के पहले से निर्धारित वेतन पर कार्यरत ऐसे अप्रशिक्षित अध्यापक जिन्होंने बाद में विशिष्ट बीटीसी की, उन्हें पुरानी पेंशन स्कीम और जीपीएफ का लाभ मिलेगा जबकि, विशिष्ट बीटीसी 2004 प्रशिक्षित, 1अप्रैल 2005 से पहले 2500 रुपये भत्ते पर दिसम्बर 2005 में नियुक्त लेकिन बाद में बीटीसी कोर्स करने वाले पुरानी पेंशन स्कीम का लाभ नहीं पाएंगे।

मृत घोषित हत्यारा 15 साल बाद हुआ गिरफ्तार

फतेहपुरउत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के अंतर्गत ललौली थाना क्षेत्र के घनश्याम का डेरा मजरे कोर्रा कनक गांव में 15 साल पहले रंजिश को लेकर एक व्यक्ति की हत्या के मामले में खुद को बचाने के लिए खुद की हत्या का षड्यंत्र रचने वाले 20 हजार के इनामी हत्यारे को पुलिस ने 15 साल बाद गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इस बड़ी कामयाबी पर पुलिस अधीक्षक ने पुलिस टीम को इनामी राशि के अलावा पांच हजार रुपये का अतिरिक्त इनाम दिया है।

निपाह वायरस से पीड़ित लोगों का इलाज करने केरल जाएंगे डॉ. कफील खान

गोरखपुर
केरल के कोझिकोड में निपाह वायरस की चपेट में आने से जान गवा रहें मरीजों के इलाज के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज केस से चर्चा में आए डॉ कफील खान ने सीएम पिनराई विजयन से इजाजत मांगी है। सोशल मीडिया के द्वारा की गई इस अपील पर केरल के सीएम विजयन ने फौरन प्रक्रिया देते हुए उनके इस प्रस्ताव का स्वागत किया।