CPEC और ग्वादर पाकिस्तान का भविष्य, अमन की चाहत कमजोरी नहीं... शहबाज ने किसको धमकाया

पाकिस्तान नौसेना अकादमी में 117वें मिडशिपमैन और 25वें शॉर्ट सर्विस कमीशन कोर्स की पासिंग आउट परेड में शहबाज शरीफ ने कहा कि देश के आर्थिक विकास के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पाकिस्तानी नौसेना की भूमिका महत्वपूर्ण है। शहबाज ने धमकाते हुए कहा कि शांति की हमारी इच्छा को कमजोरी या उदासीनता के संकेत के रूप में गलत नहीं समझना चाहिए।

शहाबुद्दीन की कैद में कांग्रेसी MLA, जेल से नीतीश के लिए बाहुबलियों का समर्थन जुटाते सुरजभान...जब बिहार में चला था महाराष्ट्र जैसा ड्रामा

महाराष्ट्र (Maharashtra political crisis) में सत्ताधारी शिवसेना (Shiv sena) के विधायक एकनाथ शिंदे (eknath shinde) की अगुवाई में विधायक बगावत कर गुवाहाटी (Gauhati) के होटल में जमे हैं। महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम के बीच हम आपको बिहार (Bihar Political story) में 22 साल पुरानी राजनीतिक घटनाक्रम की ओर ध्यान दिला रहे हैं। उस दौर में नीतीश कुमार (Nitish kumar) की सरकार बनने से रोकने के लिए लालू प्रसाद यादव (Lalu yadav)ने किस तरह से पटना (Patna) में विधायकों को कैद किया था।

मेरे नहीं अपने बाप के नाम पर वोट मांग के दिखाओ, शिवसेना नाम पर हमारा हक, उद्धव की खरी-खरी

उद्धव ठाकरे की इस बैठक में कई फैसले लिए गए। जिसमें यह फैसला लिया गया है की शिवसेना का नाम कोई इस्तेमाल कोई नहीं कर सकता। इसके लिए चुनाव आयोग को पत्र लिखा गया है। इसके अलावा गद्दारों के खिलाफ कार्रवाई करने का शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के पास पूरा अधिकार है।

आपातकाल में सिंधिया परिवारः सोने के आभूषणों से भरे दर्जनों संदूक, 53 क्विंटल चांदी, महल में छापा मारने आए अधिकारियों की भी चौंधियां गई थीं आंखें

1975 में देश में लगे आपातकाल के दौरान ग्वालियर का सिंधिया खानदान भी सरकारी कोप का शिकार हुआ। राजमाता विजयाराजे सिंधिया को तिहार जेल जाना पड़ा तो उनके बेटे माधवराव नेपाल चले गए। उनकी अनुपस्थिति में ग्वालियर में उनके महल जयविलास पैलेस पर टैक्स अधिकारियों ने छापा मारा तो वहां की समृद्धि देखकर उनकी आंखें चौंधिया गईं।

उद्धव ठाकरे या एकनाथ शिंदे... असली शिवसेना का मुखिया कौन, अलग-अलग राय

महाराष्‍ट्र में राजनीतिक संकट बना हुआ है। उद्धव ठाकरे के खिलाफ झंडा बुलंद करने वाले एकनाथ शिंदे ने सारे समीकरणों में बाजी मारते दिख रहे हैं। ऐसे में एक सवाल का उठना लाजिमी है। वह यह है कि उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे में असली शिवसेना का मुखिया कौन है। एक सर्वे में इस पर राय ली गई।