विजय दिवसः कहानी उस वीर सपूत की, जिसने कश्मीर पर कब्जा करने आए दुश्मन को दौड़ा-दौड़कर किया ढेर

आज के ही दिन साल 1971 में पाकिस्तान ने एक नापाक हरकत की थी। उसकी कायराना हरकत की जगहंसाई भी हुई थी। भारत-पाकिस्तान युद्ध में 95000 पाकिस्तानी सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था। इसी के साथ बांग्लादेश बना।

विजय दिवसः जानिए कैसे इस जांबाज ने पाकिस्तान के पूर्व जनरल के भाई को किया था ढेर

विजय दिवस के मौके पर जम्मू कश्मीर के उस वीर सपूत की कहानी से रूबरू कराते हैं जिन्होंने पाकिस्तान को ऐसा सबक सिखाया था जिसे वह चाह कर भी भुला न पाएगा।

महबूबा से मुलाकात पर अटकी पीडीपी की सियासत, मंद पड़ चुकी हैं सियासी गतिविधियां

प्रदेश में तीन साल तक भाजपा के साथ गठबंधन में सरकार में रही पीडीपी की गतिविधियां पिछले चार महीनों से लगभग मंद पड़ चुकी हैं। जम्मू में गांधीनगर स्थित संभागीय मुख्यालय को छोड़ अन्य जगहों पर पार्टी की गतिविधियां शून्य स्तर तक पहुंच गई हैं।

1971 Vijay Diwas : दुश्मन के घर में घुसकर उसको मात देने वाले जांबाज की कहानी

देश की रक्षा के लिए भारत माता के वीर सपूतों ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। इन वीरों के अदम्य साहस के आगे दुश्मनों ने हमेशा घुटने टेके हैं। साल 1971 के भारत-पाक युद्ध में पाकिस्तान ने हमारी सेना के आगे हार मान ली थी।

पाक की नापाक हरकत, मनकोट सेक्टर में किया संघर्षविराम का उल्लंघन, भारी गोलाबारी जारी

पाकिस्तान की नापाक हरकत लगातार जारी हैं। आज यानी कि सोमवार को पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले के मनकोट सेक्टर में संघर्षविराम का उल्लंघन किया। सीमा पार से भारी गोलाबारी की जा रही है। भारतीय सेना पाकिस्तान की इस नापाक हरकत का माकूल जवाब दे रही है।