श्रीनगर में अलगाववादियों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर प्रतिबंध

श्रीनगर
अलगाववादियों द्वारा बुलाए विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर प्रशासन ने शनिवार को श्रीनगर के कई हिस्सों में प्रतिबंध लगाया है। यह कदम एहतियातन उठाया गया है।

सैयद अली गिलानी, मीरवाइज उमर फारुख और मुहम्मद यासीन मली के नेतृत्व में संयुक्त प्रतिरोध नेतृत्व (जेआरएल) ने स्थानीय बंदियों को बाहर ले जाने, अज्ञात हमलावर द्वारा अलगाववादी कार्यकर्ता की हत्या और कश्मीर में बिगड़ी स्थिति के मद्देनजर प्रदर्शन का आह्वान किया है।

कश्मीर: गुलमर्ग में हुए हिमस्खलन में रूसी पर्यटक की मौत

श्रीनगर
जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग में एक स्कीइंग रिजॉर्ट में हुए हिमस्खलन में दबकर एक रूसी पर्यटक की मौत हो गई। इस हादसे के बारे में जानकारी देते हुए पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि हिमस्खलन के बाद चार अन्य पर्यटकों को रिजॉर्ट से जीवित बचाकर इलाज के लिए एक स्थानीय अस्पताल ले जाया गया है।

कश्मीर: पाक ने फिर शुरू की भारी हथियारों से गोलाबारी, LoC पर हाई अलर्ट घोषित

श्रीनगर
एलओसी पर पिछले कुछ दिनों से जारी भारी तनाव के बीच पाकिस्तान ने एक बार फिर उत्तरी कश्मीर से सटी नियंत्रण रेखा पर भारी गोलाबारी की है। पाकिस्तानी सेना के जवानों द्वारा सोमवार शाम बारामुला के उड़ी सेक्टर में सीजफायर का उल्लंघन करते हुए रिहाइशी इलाकों पर मॉर्टार दागे गए हैं।

पाकिस्तान की ओर से हुई गोलाबारी के बाद सेना के जवानों द्वारा भी जवाबी कार्रवाई की गई है। बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की गोलाबारी के दौरान भारतीय सेना की तमाम फॉरवर्ड पोस्ट पर 120 और 182 एमएम के मॉर्टार दागे गए हैं।

लेह: गर्भवती महिला को एयर लिफ्ट कर एयरफोर्स ने बचाई जान

लेह
बर्फ की चादर से ढके लेह के लोगों के लिए इंडियन एयरफोर्स के जवान एक बार फिर देवदूत बनकर सामने आए। भारी बर्फबारी के कारण खाने में दिक्कत का सामना कर रही गर्भवती महिला को इलाज के लिए ले जाने में मुश्किल आ रही थी। बताया जा रहा है कि हालत ज्यादा खराब होने पर ग्रामीणों ने एयरफोर्स से मदद मांगी। बाद में गर्भवती महिला को एयरफोर्स ने हेलिकॉप्टर से एयर लिफ्ट कर उसकी जान बचाई।

SC के फैसले के विरोध में बंद रही कश्मीर घाटी, जनजीवन प्रभावित

श्रीनगर
सुप्रीम कोर्ट के फैसले का विरोध जताने के लिए अलगाववादियों द्वारा बुलाए गए बंद के कारण आज शहर के कई हिस्सों में सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा। बता दें कि अलगाववादियों की ओर से शोपियां में की गई गोलीबारी में सैन्यकर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने पर रोक लगा देने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरोध में इस बंद का आवाहन किया गया था।