पुणे की अदालत ने वरवर राव को 26 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेजा

पुणे, 18 नवंबर (भाषा) माओवादियों से संबंध रखने के आरोपी तेलगु कवि वरवर राव को रविवार को 26 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। राव को 15 नवंबर को नजरबंदी की अवधि खत्म होने के बाद शनिवार को हिरासत में लिया गया था। पारगमन हिरासत को रद्द करने से जुड़ी उनकी एक याचिका को 16 नवंबर को वहां की एक अदालत द्वारा खारिज कर दिया गया था। राव को रविवार सुबह पुणे लाया गया और जिला एवं सत्र न्यायाधीश किशोर वी वडाने की अदालत में पेश किया गया जिन्होंने 26 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेजे जाने का आदेश दिया। जिला सरकारी अधिवक्ता उज्ज्वल पवार ने 14 दिनों के लिये पुलिस हिरासत की मांग करते हुए अदालत से कहा कि राव

वरवर राव 26 नवंबर तक पुलिस हिरासत में

पुणे, 18 नवंबर (भाषा) माओवादियों से संबंध रखने के आरोपी तेलुगू कवि वरवर राव को रविवार को 26 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। राव को 15 नवंबर को नजरबंदी की अवधि खत्म होने के बाद शनिवार को हिरासत में लिया गया था। पारगमन हिरासत को रद्द करने से जुड़ी उनकी एक याचिका को 16 नवंबर को वहां की एक अदालत ने खारिज कर दिया था। राव को रविवार की सुबह पुणे लाया गया और जिला एवं सत्र न्यायाधीश किशोर वी वडाने की अदालत में पेश किया गया। वडाने की अदालत ने उन्हें 26 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेजने का आदेश दिया। जिला सरकारी अधिवक्ता उज्ज्वल पवार ने 14 दिनों के लिये पुलिस हिरासत की मांग करते हुए अदालत से कहा

सीबीआई मामलों की सुनवाई पर नजर रख रही है तेदेपा

अमरावती, 20 नवम्बर (भाषा) आंध्रप्रदेश की सत्तारूढ़ तेलुगू देशम पार्टी सीबीआई मामलों पर उच्चतम न्यायालय में चल रही सुनवाई पर करीब से नजर बनाए हुए है ताकि विभिन्न संस्थानों की स्वतंत्रता के लिए वह कोई कदम उठाने पर निर्णय ले सके। आंध्रप्रदेश योजना बोर्ड के उपाध्यक्ष सी कुटुंब राव ने कहा, ‘‘अगर उच्चतम न्यायालय आलोक वर्मा मामले में उचित कदम उठाता है तो हम आगे नहीं बढ़ेंगे अन्यथा हम उच्चतम न्यायालय से सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय जैसे संस्थानों को स्वतंत्रता मुहैया कराने की मांग के लिए कानूनी प्रावधान तलाश करेंगे।’’ राव ने पीटीआई भाषा से कहा कि इन संस्थानों की स्वतंत्रता बनी रहे यह सुनिश्चित करने के

नक्सल रोधी जांच: दिग्विजय सिंह का फोन नंबर आरोपपत्र में शामिल

पुणे, 19 नवंबर (भाषा) एल्गार परिषद मामले के माओवादियों से कथित संबंध को लेकर गिरफ्तार किए गए 10 मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के खिलाफ जो आरोपपत्र दाखिल किया गया है, उसमें संलग्न किए गए एक पत्र में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का फोन नंबर भी होने का पुलिस ने दावा किया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया कि पुणे पुलिस द्वारा इस मामले के सिलसिले में देश भर में मारे गए छापे के दौरान यह पत्र जब्त किया गया था। पुणे पुलिस ने हाल ही में पांच कार्यकर्ताओं - सुरेंद्र गाडलिंग, शोमा सेन, महेश राउत, रोना विल्सन और सुधीर धावले के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया है। उन्हें जून में गिरफ्तार किया गया था।

पुणे: महिला सहकर्मी पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए असिस्टेंट प्रफेसर ने दी भूख हड़ताल की धमकी

पुणे
सावित्रीबाई फूले पुणे यूनिवर्सिटी (एसपीपीयू) में दो सहकर्मियों के बीच विवाद सामने आया है। यहां हिंदी विभाग के असिस्टेंट प्रफेसर डॉ. नितिन गायकवाड़ ने महिला सहकर्मी पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए भूख हड़ताल पर बैठने की चेतावनी दे डाली। वहीं आरोपी सहकर्मी ने दावा किया कि प्रफेसर खुद सभी महिलाकर्मियों के साथ काफी बुरा बर्ताव करते हैं। महिला सहकर्मी ने यह भी कहा कि असिस्टेंट प्रफेसर ने यह आरोप उनकी छवि खराब करने के लिए लगाया है।